ग़ज़ल-ऐ-खामोश

ग़ज़ल-ऐ-खामोश

Copy Ghazal

उसको सोचू या न सोचू, दिल मेरा खामोश है
नाम आता है बार बार, लेकिन होंठ मेरा बेहोश है

ये बारिश की बूंदें, ये बदल काले काले
दिल में यादें उसकी, सारा समां मदहोश है

नयी उमंग, नए तराने और नया नया सा गम इश्क़ का
पाने की आरज़ू है उसको, और दिल में भरा जोश है

एक मुद्दत से नहीं मिला में उस से एक मुद्दत से दिल वीरान है
हर एक दिन जैसे जंगल हो, और ज़िन्दगी जैसे खानाबदोश है

नहीं लगता अब मेरे घर में महफ़िल-ऐ-यार यारो की
उसकी मोहोब्बत के कारण, सबके दिलो में बहुत रोश है

 ~
ग़ज़ल-ऐ-इश्क़-ऐ-मोहोब्बत

ग़ज़ल-ऐ-इश्क़-ऐ-मोहोब्बत

Copy Ghazal

जब भी उसके ज़ुल्फ़ों को बात चली
आँखों से आंसुओं की धार चली

दिल की बातों पर इक्तियार न करना कभी
ये कईओं को बेरहमी से मार चली

इश्क़ की रहनुमाई करते-२ थक जाता है दिल
इश्क़ की राहों पर खुवाईशैं बेकार चली

गम और तन्हाइयों का साया ज़िन्दगी पर
धड़कने भी दिल की उधार चली

खता क्या थी अपनी ये हम समझ न सके
वो हमसे रूठ कर यूँ भी बेज़ार चली

 ~
ग़ज़ल-ऐ-शख्शियत

ग़ज़ल-ऐ-शख्शियत

Copy Ghazal

मैं अपनी तुमको आज शख्शियत बताता हूँ
के रिश्ते मैं दुनिया के सारे ही निभाता हूँ

डरता नहीं हू मैं किसी से इस जहाँ में मगर
उस खुद के दर पर ही अपना सर झुकाता हूँ

ख़ुशी और गम का मेल बड़ा बेमोल होता है
मैँ इन दोनों को ही हर पल अपना बनाता हूँ

ज़र्रे ज़र्रे से खुशबू आये मेरे मोहोब्बत की
हर गली, हर कुंचा मैँ फूलों से सजाता हूँ

हो न जाए कही अँधेरा उसकी गलियों में
इसलिए भी मैँ इन चिरागों को जलाता हूँ

 ~
मेरी यादों में आ, मेरी बातों में आ

मेरी यादों में आ, मेरी बातों में आ

Copy Dard Shayari

मेरी यादों में आ
मेरी बातों में आ
लगी है आग दिल में
उसको बुझाने को आ

मेरी आँखों में आ
मेरे दिल में समां
दर्द जो है दिल में
उसको मिटाने को आ

मेरी ज़िन्दगी में आ
मेरी ज़िन्दगानी को बदल जा
खुवाईशैं है बहुत मेरे दिल में
उसको मिलाने को आ

मेरी हर सुबहों में आ
मेरी हर शामों में आ
है इंतज़ार में मेरा दिल
उसको कुछ बताने को आ

 ~
ग़ज़ल-ऐ-याद-ऐ-तड़प

ग़ज़ल-ऐ-याद-ऐ-तड़प

Copy Ghazal

उसकी याद जब आती है मुझ को
दिल मेरा ताड ताड हो जाता है

दिल में उठता है अजीब सा दर्द
और आंसुओं का अंबार हो जाता है

लगता है मेला मेरी आँखों में चेहरे का
और तेज़ तेज़ दिल का धरकना बार बार हो जाता है

हो जाती है फनाह मेरी शख्शियत उस पल लोगो
और मेरा दिल भी एकदम लाचार हो जाता है

उम्मीद अब तक है मेरे इस कम्बक्त दिल को
क्या करू ये दिल भी अब बेज़ार हो जाता है

कोई तो बता दो मुझे लोगो उस इंसानो के बारे में
कहा जाए वो इंसान जो इश्क़ में बेकार हो जाता है

 ~
ग़ज़ल-ऐ-ज़िन्दगी, अपनी ज़िन्दगी को

ग़ज़ल-ऐ-ज़िन्दगी, अपनी ज़िन्दगी को…

Copy Ghazal

अपनी ज़िन्दगी को में आज़माता जा रहा हूँ
इसको हर पल गम से सजाता जा रहा हूँ

याद में अब भी वो बाकी है मेरे
सुबह, शाम, दिन, रात उसको बुलाता जा रहा हूँ

कहता है वो अब और कितना इंतज़ार करू
अपने दिल को हर रोज़ मनाता जा रहा हूँ

चेहरे पर अब रोनक की लहर नहीं दिखती
चेहरे को आंसुओं से सजाता जा रहा हूँ

डर लगता है अब तो मुझ को उजालों से
सारे चिराग में बुझाता जा रहा हूँ

मिलेगा क्या मुझे ऐसा कर के जानता नहीं
बस तस्सली-ऐ-दिल के लिए अँधेरा फैलाता जा रहा हूँ

 ~
ग़ज़ल-ऐ-बेवफाई, आँख में गिरता हुआ पानी

ग़ज़ल-ऐ-बेवफाई, आँख में गिरता हुआ पानी…

Copy Ghazal

ये जो मेरी आँख में गिरता हुआ पानी है
ये मेरी एक बिखड़ी हुई ज़िन्दगानी है

हो गया हू में जैसे हो कोई जिन्दा लाश
खुद खैर करे, ये कैसी मेरी जवानी है

करूँगा नहीं में बर्बाद किसी को उसकी तरह
मैंने और मेरे दिल ने अब यही बात ठानी है

लोग जो पूछे तो क्या कहू बस यही सोचता हू मैँ
मेरी ज़िन्दगी की कहानी मेरी ही ज़ुबानी है

मिले चाहे गम या फिर खुशियों का मेला
सब कुछ समेट कर रखना मेरी आदत पुरानी है

दगा दिया उसने मुझे तो इस में ताज़्ज़ुब कैसा
बेवफाई तो उसकी आदत खानदानी है

 ~