तन्हाइयों से भरी

तन्हाइयों से भरी

Copy Ghazal

तन्हाइयों से भरी ज़िन्दगी है
और दिल मेरा वीरान है

चाहत भी क्या चाहत है उसकी
वो बेवफा बहुत महान है

मोहोब्बत लव्ज़ यूँ तो बफ दिखाती है
मगर ये भी बेवफाई से थोड़ी अनजान है

सब कुछ लुटा देते है लोग इस के कारण
इसलिए भी चाहत इसका नाम है

क्यों जलते हो तुम सब मुझ से
जिसका नाम है इस में वही तो बदनाम है

मिले अगर तन्हाई और गम तो अचरज न करना
के यही तो एक हसीन मोहोब्बत का अंजाम है

क्या हुआ जो उस ने तुमको ठुकरा दिया
और क्यों ले रखा तुमने अपने हाथों में जाम है

सुबह शाम, दिन रात बस मेहबूब को सोचना
बस एक यही इस इश्क़ का काम है

 ~
तुझे अपनी ज़िन्दगी में

तुझे अपनी ज़िन्दगी में…

Copy Hindi Shayari

तुझे अपनी ज़िन्दगी में लाना चाहता हूँ मैँ
के तुझको अपना बनाना चाहता हूँ मैँ

ये हसीन नज़ारें, ये हसीन मंज़र
तेरे साथ एक नज़्म गुनगुनाना चाहता हूँ मैँ

कितनी मोहोब्बत है मेरे दिल में तेरे खातिर
तुझ से मिल कर ये बात बताना चाहता हूँ मैँ

बस एक खुवाईश है दिल की और एक ही तम्मना ज़िन्दगी की
के तेरे साथ अपनी ज़िन्दगी बिताना चाहता हूँ मैँ

बन जा मेरी तू मेरी सदा के लिए और थाम ले मेरा हाथ
अपनी ज़िन्दगी को खुशियों से सजाना चाहता हूँ मैँ

 ~