मुझको करीब आकर यूँ देखा न कीजिए

मुझको करीब आकर यूँ देखा न कीजिए…

Copy Ghazal

मुझको करीब आकर यूँ देखा न कीजिए,
ऐसा न कीजिए अभी ऐसा न कीजिए।

मैं मर रहा हूँ और ज़रा उनको देखना,
कहते है हुस्न को अभी तन्हा न कीजिए।

उनकी समझ में आया न, सौ बार कह चुका,
गैरों के सामने मुझे देखा न कीजिए।

नज़रे तो मेरी रूसवाओ बदनाम है मगर,
उनसे नहीं ये कहते नज़ारा न कीजिए।

जो जी में आये कीजिए अल्लाह के लिए,
यूॅ सब के सामने मुझे रूसवा न कीजिए।

मेरा दिल चुरा के कहते है वो ‘असद’
आया न कीजिए दिल में जाया न कीजिए।

 ~

Add a Comment