मेरी किस्मत मुझे ले कर जायेगी कहाँ

मेरी किस्मत मुझे ले कर जायेगी कहाँ…

Copy Ghazal

मेरी किस्मत मुझे ले कर जायेगी कहाँ, हर वक्त मैं यही सोचता रहा।

ऐसे ही कट जायेगी जिन्दगी यहाँ-वहाँ, हर वक्त मैं यही सोचता रहा।

न हमदर्दी दिलों में न बची इंसानियत, कैसे है लोग यहाँ पर,
कैसा है ये जहां, हर वक्त मैं यही सोचता रहा।

कही तो होगी कभी तो मिलेगी, मै ढूँढता रहा,
न मुझे मंजिल मिली न मंजिल के निशां, हर वक्त मैं यही सोचता रहा।

वो बचपन जवानी में खुशियों की बारिश,
मेरी वो जिन्दगी अब मिलेगी कहा हर वक्त मैं यही सोचता रहा।।

 ~

Add a Comment