ADVERTISEMENT
कब से सता रहा है कोई मेहरबाँ मुझको

कब से सता रहा है कोई मेहरबाँ मुझको…

Copy Ghazal

ये रास आये भला किस तरह जहाॅ मुझको,
कब से सता रहा है कोई मेहरबाँ मुझको।
ना जाने क्या मेरी नज़रों में हो गया ऐ दोस्त,
बहार में भी नज़र आती है अब खिज़ा मुुझको।
बहाता ना आंसू उसकी तलाश में हरगिज़,
नज़र जो आता दूर से ही आशियाँ मुझको।
तू गम ज़दा न हो खुशियों से झूम जा ऐ दिल,
दिखाई देते है मंजिल के अब निशा मुझको।
दुआ मांगू यही मैं अब हर मर्तबा तुझसे,
नज़रों में किसी के भी ना गिरा मुझको।

 ~
ADVERTISEMENT

Add a Comment

SPONSORED POSTS
loading...