हर लम्हा हर पल तुम्हे याद किया करते है

हर लम्हा हर पल तुम्हे याद किया करते है…

Copy Ghazal

अपनी जिन्दगी को यू ही आबाद किया करते है,
हर लम्हा हर पल तुम्हे याद किया करते है।

मेरे हाथों में बन जाये तेरी भी लकीर,
उसकी चैखट पे जाकर फरियाद किया करते है।

सुना है कि परिन्दे भी खबर ले कर आते है,
इसलिए हर परिन्दे को आजाद किया करते है।

मुहब्बत होती है क्या शायद वो जानते ही नहीं,
वो समझते है हम वक्त बरबाद किया करते है।

 ~

Add a Comment