ADVERTISEMENT
ग़ज़ल-ऐ-ज़िन्दगी, अपनी ज़िन्दगी को

ग़ज़ल-ऐ-ज़िन्दगी, अपनी ज़िन्दगी को…

Copy Ghazal

अपनी ज़िन्दगी को में आज़माता जा रहा हूँ
इसको हर पल गम से सजाता जा रहा हूँ

याद में अब भी वो बाकी है मेरे
सुबह, शाम, दिन, रात उसको बुलाता जा रहा हूँ

कहता है वो अब और कितना इंतज़ार करू
अपने दिल को हर रोज़ मनाता जा रहा हूँ

चेहरे पर अब रोनक की लहर नहीं दिखती
चेहरे को आंसुओं से सजाता जा रहा हूँ

डर लगता है अब तो मुझ को उजालों से
सारे चिराग में बुझाता जा रहा हूँ

मिलेगा क्या मुझे ऐसा कर के जानता नहीं
बस तस्सली-ऐ-दिल के लिए अँधेरा फैलाता जा रहा हूँ

 ~
ADVERTISEMENT

Add a Comment

SPONSORED POSTS
loading...