ग़ज़ल-ऐ-याद-ऐ-तड़प

ग़ज़ल-ऐ-याद-ऐ-तड़प

Copy Ghazal

उसकी याद जब आती है मुझ को
दिल मेरा ताड ताड हो जाता है

दिल में उठता है अजीब सा दर्द
और आंसुओं का अंबार हो जाता है

लगता है मेला मेरी आँखों में चेहरे का
और तेज़ तेज़ दिल का धरकना बार बार हो जाता है

हो जाती है फनाह मेरी शख्शियत उस पल लोगो
और मेरा दिल भी एकदम लाचार हो जाता है

उम्मीद अब तक है मेरे इस कम्बक्त दिल को
क्या करू ये दिल भी अब बेज़ार हो जाता है

कोई तो बता दो मुझे लोगो उस इंसानो के बारे में
कहा जाए वो इंसान जो इश्क़ में बेकार हो जाता है

 ~

Add a Comment