इश्क़ का खेल

इश्क़ का खेल…

Copy Dard Shayari

इश्क़ का खेल बहुत ही अजीब हो गया है
इंसा दिल के बहुत करीब हो गया है
भर तो ली है झोली उन सब ने सिक्कों से
मगर, चाहत के मुकाबले बहुत गरीब हो गया है

 ~

Add a Comment