ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
मेरी यादों में आ, मेरी बातों में आ

मेरी यादों में आ, मेरी बातों में आ

Copy Dard Shayari

मेरी यादों में आ
मेरी बातों में आ
लगी है आग दिल में
उसको बुझाने को आ

मेरी आँखों में आ
मेरे दिल में समां
दर्द जो है दिल में
उसको मिटाने को आ

मेरी ज़िन्दगी में आ
मेरी ज़िन्दगानी को बदल जा
खुवाईशैं है बहुत मेरे दिल में
उसको मिलाने को आ

मेरी हर सुबहों में आ
मेरी हर शामों में आ
है इंतज़ार में मेरा दिल
उसको कुछ बताने को आ

 ~
इतना न सता हमको

इतना न सता हमको…

Copy Dard Shayari

इतना न सता हमको कही हम न बिखर जायें,
टूटा हुआ दिल ले कर जाये तो किधर जायें।

देखो तो सितम कितने करते है अपने ही,
सहते हुए इतने सितम कही हम न मर जायें।

ऐसे ही ग़मों के संग अब कैसे जियेगें हम,
बढ़ते हुए मेरे कदम यही पे न ठहर जायें।

 ~
ADVERTISEMENT
SPONSORED POSTS
loading...