सरे आम न कर दू

सरे आम न कर दू…

Copy Bewafa Shayari

अपनी मोहोब्बत की चर्चा मैँ आम न कर दू
कही उस बेवफा को मैँ बदनाम न कर दू
डरता हू मैँ बस इस मोहोब्बत की रुसवाई से
कही मैँ उस बेवफा को सरे आम न कर दू

 ~

Add a Comment