ADVERTISEMENT
मोहोब्बत का तकाज़ा

मोहोब्बत का तकाज़ा…

Copy Bewafa Shayari

मोहोब्बत का तकाज़ा तो खूब करते हो तुम
लेकिन इसका फलसवा तुमको मालूम नहीं
जानते हो तुम बस हाथ में हाथ डालना
लेकिन कदम से कदम मिला कर चलना तुम्हे मालूम नहीं

 ~
ADVERTISEMENT

Add a Comment

SPONSORED POSTS
loading...