तुम्हारे लिए मेरी चाहत

तुम्हारे लिए मेरी चाहत…

Copy Bewafa Shayari

तुम्हारे लिए मेरी चाहत कभी कम न होती,
अगर तू इतनी संगदिल और बेरहम न होती।
तुम्हे अपने दिल में रखता और दिल में सजाता,
अगर तेरे झूठे वादे और झूठी कसम न होती।।

 ~
हिंदी बेवफ़ा शायरी, तेरे सुर्ख होंठों

हिंदी बेवफ़ा शायरी, तेरे सुर्ख होंठों…

Copy Bewafa Shayari

तेरे सुर्ख होंठों पर ये लाली अच्छी नहीं लगती
तेरे हांथों में ये प्याली अच्छी नहीं लगती
ए बेवफा मत बदल अब तू ज़मीर अपना
तेरे दर की सवाली अब अच्छी नहीं लगती

 ~
मोहोब्बत का तकाज़ा

मोहोब्बत का तकाज़ा…

Copy Bewafa Shayari

मोहोब्बत का तकाज़ा तो खूब करते हो तुम
लेकिन इसका फलसवा तुमको मालूम नहीं
जानते हो तुम बस हाथ में हाथ डालना
लेकिन कदम से कदम मिला कर चलना तुम्हे मालूम नहीं

 ~