हिंदी जुदाई शायरी, हम तड़प रहे है

हिंदी जुदाई शायरी, हम तड़प रहे है…

Copy Judai Shayari

हम तड़प रहे है याद में तेरी देखो कैसी जुदायी है
हर पल अब मै रब से पूछू कैसी दुनिया बनायी है

मेरे ही सपनो में तूने अपनी दुनिया बनायी थी
तूने मुझसे प्यार किया था तूने कसमें खायी थी

मेरे अरमानों ने देखो कैसी ठोकर खायी है
हर पल अब मै रब से पूछू कैसी दुनिया बनायी है

 ~
इश्क़ ग़ज़ल, ये ताजमहल देखो हमें याद दिलाता है

इश्क़ ग़ज़ल, ये ताजमहल देखो हमें याद दिलाता है…

Copy Ghazal

ये ताजमहल देखो हमें याद दिलाता है
होती है क्या मुहब्बत ये सबको बताता है

लिखी है इसमे देखो दास्ताने मुहब्बत की
होती है कैसे देखो इबादत ये मुहब्बत की

ये बेजुवॉ है पर कहानी ये सुनाता है
होती है क्या मुहब्बत ये सबको बताता है

चाहा था उसने कितना कितनी मुहब्बत की थी
अपने प्यार की निषानी सारे जहॉ को दी थी

सच्ची मुहब्बत क्या है ये हमको सिखाता है
होती है क्या मुहब्बत ये सबको बताता है

है कितनी खूबसूरत संगमरमर की इमारत
इसमे की थी उसने मुमताज की इबादत

सदियों रहेगी याद अहसास कराता है
होती है क्या मुहब्बत ये सबको बताता है

 ~
दिल शायरी, आज फिर हद से

दिल शायरी, आज फिर हद से…

Copy Love Shayari

आज फिर हद से गुज़र जाने को दिल करता है
आगोश में उनके टूट कर बिखर जाने को दिल करता है
लाख दुशमन है जमाना तो अब डरना कैसा
अब ऐसे ही तेरी बाहों में मर जाने को दिल करता है।

 ~